अब असम राइफल्स के पूर्व सैनिकों को मिलेगा ECHS का फायदा | Latest News for Government Employees | 7th Pay Commission Latest News - Government Staff

Live Cricket Score

March 20, 2019

अब असम राइफल्स के पूर्व सैनिकों को मिलेगा ECHS का फायदा | Latest News for Government Employees | 7th Pay Commission Latest News

अब असम राइफल्स के पूर्व सैनिकों को मिलेगा ECHS का फायदा
नई दिल्ली : असम राइफल्स से रिटायर्ड सैनिकों को भी अब आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के पूर्व सैनिकों की तरह ईसीएचएसका फायदा मिलेगा। कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्यॉरिटी (सीसीएस) ने इसे मंजूरी दे दी है। इसका फायदा असम राइफल्स के 92 हजार से ज्यादा पूर्व सैनिकों और उनके परिवार वालों को मिलाकर 3 लाख से ज्यादा लोगों को होगा। ईसीएचएस यानी एक्स सर्विसमैन कॉन्ट्रिब्यूट्री हेल्थ स्कीम पूर्व सैनिकों और उनके परिवार वालों के लिए हेल्थ केयर स्कीम है। असम राइफल्स के पूर्व सैनिकों को अब तक सीजीएचएस यानी सेंट्रल गर्वनमेंट हेल्थ स्कीम के तहत हेल्थ केयर मिलती है। 


असम राइफल्स देश की सबसे पुरानी पैरामिलिटरी फोर्स है। यह नॉर्थ-ईस्ट इलाकों में आंतरिक सुरक्षा और भारत-म्यांमार सीमा की सुरक्षा का जिम्मा संभालती है। जहां आर्मी, नेवी, एयरफोर्स के अलावा कोस्ट गार्ड और स्पेशल फ्रंटियर फोर्सज के पूर्व सैनिकों को ईसीएचएस का फायदा मिलता है वहीं असम राइफल्स के पूर्व सैनिक सीजीएचएस के तहत कवर होते हैं। अब ईसीएचएस की सुविधा भारत और नेपाल में रहने वाले असम राइफल्स के पूर्व सैनिकों और उनके परिवार वालों को भी मिलेगी।
होम मिनिस्ट्री के आंकड़ों के मुताबिक असम राइफल के 92,000 से ज्यादा पेंशनर हैं जिनमें करीब 27 हजार नेपाल में रहते हैं। भारत में असम राइफल्स के एक पूर्व सैनिक की तरफ से केरल हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी जिसमें कहा गया था कि सीजीएचएस की सुविधा दूर दराज के एरिया में नहीं मिल पाती है इसलिए हमें ईसीएचएस का फायदा दिया जाए। जिसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंचा ओर कोर्ट ने पूर्व सैनिक के पक्ष में फैसला सुनाया। अब सीसीएस ने इसे मंजूर कर लिया है। जहां सीजीएचएस की सुविधा देश के 37 शहरों में मिलती है वहीं ईसीएचएस के देश भर में 427 पॉलिक्लीनिक हैं। जो 347 जिलों को कवर करते हैं। देश में कुल 716 जिले हैं इस हिसाब से ईसीएचएस के पॉलिक्लीनिक 49.3 पर्सेंट जिले कवर करते हैं। 



No comments:

Post a Comment